पुलिस उप निरीक्षक के खिलाफ ड्यूटी के दौरान लापरवाही बरतने पर मामला दर्ज

highcourt shimla

हिमाचल प्रदेश के उच्च न्यायालय ने पुलिस उप निरीक्षक के खिलाफ ड्यूटी के दौरान लापरवाही बरतने के आरोप में विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए है, इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की

आरोपी के खिलाफ मादक पदार्थ निरोधक अधिनियम के तहत दर्ज आपराधिक मामले का चालान देरी से दायर करने का आरोप दर्ज किया गया है।

फाइलें न सौंपने को लेकर अधिकारी के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज की गई

इसी के साथ बताया जा रहा है की इन पर यह भी आरोप है कि उसने अपना स्थानांतरण ऊना से किन्नौर होने पर अभियोजन संबंधी फाइलें एसएचओ ऊना को समय पर नहीं सौंपीं थी।

इसी के साथ बताया जा रहा है की फाइलें न सौंपने को लेकर अधिकारी के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज की गई थी, साथ ही बताया जा रहा है की बाद में रद्द कर दिया गया था।

पुलिस महानिदेशक को इस मामले को व्यक्तिगत रूप से देखने के निर्देश जारी

जानकारी के अनुसार यह भी कहा जा रहा था इन पर आरोप है कि उप निरीक्षक खुद पुलिस विभाग से होने के कारण उसके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी में कैंसेलेशन रिपोर्ट तैयार करवाने में कामयाब हो गया है,

साथ ही न्यायाधीश विवेक सिंह ठाकुर ने पुलिस महानिदेशक को इस मामले को व्यक्तिगत रूप से देखने के निर्देश जारी किए गए हैं।

इंस्पेक्टर अंकुश डोगरा के खिलाफ गैरकानूनी ढंग से आपराधिक मामला दर्ज

इसी के साथ सब इंस्पेक्टर अंकुश डोगरा के खिलाफ गैरकानूनी ढंग से आपराधिक मामले की फाइल अपने पास रखने को कानून के अनुसार उचित कार्रवाई करने के आदेश जारी किए गए है,

प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस महानिदेशक को यह भी निर्देश दिया गया है कि वे जांच अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी करें साथ ही

अभियोजन पक्ष के अनुसार मादक पदार्थ की तस्करी के आरोपी से 16 नवंबर 2016 को 4. 60 ग्राम हेरोइन बरामद की गई थी, इसी के साथ इस मामले को लेकर चालान 24 मई 2018 को कोर्ट के समक्ष दाखिल किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *