03 साल बाद हमीरपुर कांग्रेस के नेता एक बार फिर बैठक में आपस में ही भिड़ गए

himachal pradesh ha

हिमाचल प्रदेश में करीब 03 साल बाद हमीरपुर कांग्रेस के नेता एक बार फिर बुधवार को यहां एक बैठक में आपस में ही भिड़ गए, प्राप्त जानकारी के अनुसार

बताया जा रहा है की यह बैठक कार्यकर्ताओं में एकजुटता का पाठ पढ़ाने और पंचायत व नगर निकाय चुनाव में सहमति बनाने के लिए रखी थी।

पंचायत व नगर निकाय चुनाव में सहमति बनाने के लिए रखी गयी थी यह बैठक

मगर यहां उल्टा ही हुआ है, साथ ही इससे पहले कि कोई रणनीति बनती, कांग्रेस के राज्य प्रवक्ता प्रेम कौशल, कांग्रेस एससी सेल के राष्ट्रीय संयोजक सुरेश कुमार और पूर्व में ब्लॉक कांग्रेस प्रभारी रहे रामचंद्र पठानिया आपस में ही किसी बात पर भिड़ गए।

देखते ही देखते बहस झड़प में तब्दील हो गयी

इसी के साथ बताया जा रहा है की यह विवाद पिछले चुनाव में पार्टी समर्थित प्रत्याशियों की हार और जीत के मुद्दे पर हुआ है, इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की भोरंज विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस

समर्थित पिछले चुनाव में जीते 02 जिला परिषद प्रत्याशियों पर अंकुश सैनी और संगीता शर्मा की जीत का श्रेय लेने और कुछ प्रत्याशियों के चुनाव में हार के कारण बहसबाजी हो गयी, जो देखते ही देखते बहस झड़प में तब्दील हो गयी।

नौबत हाथापाई तक पहुंचने वाली थी

इसी के साथ बताया जा रहा है कि प्रदेश में फैले कोरोना संकट में यह नौबत हाथापाई तक पहुंचने वाली थी, लेकिन विधायक इंद्रदत्त लखनपाल और बैठक में मौजूद अन्य पदाधिकारियों ने तीनों को बमुश्किल शांत करवाया।

इसी के साथ इससे पहले 03 वर्ष पूर्व विधायक राजेंद्र राणा के विधानसभा क्षेत्र सुजानपुर में विधायक सुखविंद्र सिंह सुक्खू के कार्यक्रम में भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एक-दूसरे पर कुर्सियां मारीं थीं, जिसके बाद एक बार फिर से यह झड़प हुई है।

बैठक में चार दर्जन पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे

साथ ही इस बैठक में चार दर्जन पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे, साथ ही हालांकि एससी सेल के राष्ट्रीय संयोजक सुरेश कुमार ने कहा कि बैठक में छोटी-

मोटी बातें चलती रहती हैं, साथ ही यह भी कहा की यह पार्टी का अंदरूनी मामला है, जिस को लेकर टिपणी करना सही नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *