हिमाचल की सभी गोशालाओं को ग्रीन एनर्जी से लैस करने की योजना तैयार

cow in himachal

हिमाचल प्रदेश में ऊर्जा विभाग ने सूबे की सभी गोशालाओं को ग्रीन एनर्जी से लैस करने की योजना बनाई है, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की इसके तहत गोशालाओं को ऊर्जा की दृष्टि से ग्रीन और

आत्मनिर्भर बनाया जाएगा, इसी के साथ बताया जा रहा है की हिमाचल प्रदेश में 186 गोशालाएं शामिल हैं, जिनमें 16000 से ज्यादा पशु सुरक्षित रखा गया है।

सोलर उपकरणों के जरिये ऊर्जा भी तैयार की जाएगी

इसी के साथ बताया जा रहा है की इन गोशालाओं में बायो गैस की आधुनिकतम तकनीक और सोलर उपकरणों के जरिये ऊर्जा भी तैयार की जाएगी, इसी के साथ अगर गोशालाओं से जरूरत से ज्यादा ऊर्जा तैयार होती है तो

उस अतिरिक्त बिजली से ग्रिड कनेक्टिविटी के जरिये आय भी अर्जित कर सकेंगे, साथ ही इस संबंध में अतिरिक्त मुख्य सचिव ऊर्जा राम सुभग सिंह ने सभी उपायुक्तों को एक पत्र भी लिखा है।

उद्योग एवं ऊर्जा विभाग से संबंधित तीन-तीन बिंदुओं पर ध्यान केंद्रित

इसी के साथ पत्र में उद्योग एवं ऊर्जा विभाग से संबंधित तीन-तीन बिंदुओं पर ध्यान केंद्रित कराते हुए कहा गया है कि सभी उपायुक्त अपने जिलों में ग्रीन

गोशाला समेत कुल 06 बिंदुओं पर खास ध्यान दें, ताकि सरकार की योजनाओं को सफल बनाकर आम जनता को फायदा पहुंचाया जा सके, जानकारी के अनुसार बताता जा रहा है।

गोशालाओं को सोलर पावर से लैस करने के संबंध में लगातार प्रयास

इस पत्र में उद्योग विभाग से संबंधित तथा आत्मनिर्भर भारत के तहत फूड प्रोसेसिंग, हस्तशिल्प, हथकरघा, ईज ऑफ डुइंग बिजनेस तथा ऊर्जा विभाग से संबंधित लो वोल्टेज इलाकों में लकड़ी के खंभों को बदलने,

हाइड्रो प्रोजेक्टों की समीक्षा और प्रदेश में स्तिथ इन गोशालाओं को सोलर पावर से लैस करने के संबंध में लगातार प्रयास करने को कहा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *