हिमाचल की राजधानी और हिल्स क्वीन शिमला बनी कोरोना हॉट स्पाट

himachal pradesh

हिमाचल प्रदेश की राजधानी और हिल्स क्वीन शिमला कोरोना हॉट स्पाट बन गई है, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है, की यहां आलम यह है कि अब शिमला में सैलानी भी यहां आने से कतराने लगे हैं, इसी के साथ

बताया जा रहा है, की प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर पहाड़ों की रानी शिमला की शुद्ध आबोहवा में फुर्सत के पल बिताने के लिए हर साल यहां हजारों की तादाद में सैलानी शिमला पहुंचते है।

बढ़ते कोरोना वायरस के मामलो की बजह से यहां के अधिकतर होटल भी खाली

मगर प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की इस बार ऐसा नहीं है, प्रदेश में और खास कर के शिमला में बढ़ते कोरोना वायरस के मामलो की बजह से यहां के अधिकतर होटल भी खाली पड़े हुए हैं, इसी के साथ यह भी

कहा जा रहा है की कोरोना वायरस के मामलों की बढ़ने की रफ्तार का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अक्तूबर में जहां 1,800 एक्टिव केस थे वहीं एक माह बाद नवंबर में यह मामले 7,500 से पार चले गए, जिस बजह से इस का इसका पर्यटन कारोबार पर पड़ा है।

महामारी की रोकथाम की जगह सरकार भी तबादलों की राजनीति में फंसकर रह गई

इसी के साथ यह भी कहा जा रहा है की शुरू में कोरोना वायरस को लेकर सरकार की तरफ से बरती सख्ती के अच्छे परिणाम निकले थे, इसी के साथ जिले में एक भी कोरोना मरीज की मौत नहीं हुई थी, साथ ही दूसरे जिलों से लगातार मामले आ रहे थे।

शिमला जिले में पहला मामला 24 मई को सामने आया था

इसी के साथ शिमला जिले में पहला मामला 24 मई को सामने आया था, इसी के साथ इस महामारी की रोकथाम की जगह सरकार भी तबादलों की राजनीति में फंसकर रह गई, साथ ही इतने मामले सामने आने के बाद भी प्रशासन हाथ पर हाथ धरे बैठा है।

राजनीतिक दबाव में शोघी से बैरियर हटाना पड़ा महंगा

इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की राजनीतिक दबाव में शोघी से बैरियर हटा दिया गया है, इसके बाद बेरोक-टोक बिना जांच के बाहर से लोग शहर में प्रवेश करने लगे, इसी के साथ शिमला में लगे

कैसे फैला कोरोना, क्या रहे कारण

बैरियर हटने से रेड जोन से आने वाले बाहरी लोगों के बारे में कोई जानकारी प्राप्त नहीं हो पाई, इसी के साथ बताया जा रहा है की संस्थागत क्वारंटीन की व्यवस्था खत्म हो गई है, जिस बजह से भी बहुत से कोरोना संक्रमित हो रहे है।

शुरुआती दौर में व्यवस्था संभालने वाले डीसी और एसपी को बदल दिया गया

इसी के साथ देश में फैले कोरोनाकाल के शुरुआती दौर में व्यवस्था संभालने वाले डीसी और एसपी को बदल दिया गया था, इसी के साथ करवाचौथ, दिवाली और

शादी समारोह में आम जनता को खुली छूट दी गयी थी जिस बजह से लोग भारी संख्या में बाजारों में आने लगे थे,

जिस बजह से कई स्थानों में भीड़ अधिक होने की बजह से सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल नहीं हो पा रहा था, बाजारों में भीड़ और बसों में ओवरलोडिंग शुरू होना भी कोरोना बढ़ने का एक कारण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *