बुधवार को 105 और मृत प्रवासी पक्षियों के अवशेष पौंग बांध अभयारण्य क्षेत्र में पाए गए

हिमाचल प्रदेश में फैले बर्ड फ्लू के चलते स्वास्थ्य विभाग ने अलर्ट जारी किया है, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की प्रदेश में बुधवार को 105 और मृत प्रवासी पक्षियों के अवशेष पौंग बांध अभयारण्य क्षेत्र में

पाए गए हैं, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की प्रदेश में वन्य जीव विंग की टीमों ने इनका वैज्ञानिक ढंग से निपटान किया है।

4742 प्रवासी और 174 जंगली परिंदों की मौत हो चुकी

साथ ही कहा जा रहा है की यहां अब तक कुल 4742 प्रवासी और 174 जंगली परिंदों की मौत हो चुकी है, इसी के साथ बताया जा रहा है की स्वास्थ्य विभाग ने राज्य के सभी मेडिकल कॉलेजों को एहतियात बरतने और आइसोलेशन वार्ड बनाने के लिए कहा है।

मेडिकल कॉलेज प्रशासन को 4 से 5 बिस्तर स्पेयर रखने के आदेश दिए

साथ ही इन सभी मेडिकल कॉलेज प्रशासन को 4 से 5 बिस्तर स्पेयर रखने के आदेश दिए हैं, जानकारी के अनुसार ताकि जरूरत पड़ने पर बर्ड फ्लू से ग्रसित

मरीजों का यहां रखा जा सके, हालांकि हिमाचल में अभी तक किसी इंसान के बर्ड फ्लू से संक्रमित होने का कोई मामला सामने नहीं आया है।

पशुपालन विभाग के 4000 कर्मियों की छुट्टियों पर रोक लगा दी

हिमाचल प्रदेश सरकार ने बर्ड फ्लू पर काबू होने तक पशुपालन विभाग के 4000 कर्मियों की छुट्टियों पर रोक लगा दी है, साथ ही पशुपालन विभाग के निदेशक

अजमेर सिंह डोगरा ने जानकारी देते हुए बताया कि विभाग के डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं।

बर्ड फ्लू प्रभावित क्षेत्रों में कर्मचारियों को 2000 पीपीई किट उपलब्ध कराई जा चुकी

इसी के साथ बर्ड फ्लू प्रभावित क्षेत्रों में कर्मचारियों को 2000 पीपीई किट उपलब्ध कराई जा चुकी हैं, साथ ही काँगड़ा के नगरोटा सूरियां और धर्मशाला में नियंत्रण कक्ष स्थापित किए गए हैं तथा कांगड़ा जिले में बर्ड फ्लू

फिलहाल नियंत्रण में आता नहीं दिख रहा है, ऐसे में पशुपालन विभाग ने 79 और टीमों का गठन भी किया है, जबकि 132 टीमें मृत पक्षियों के उचित निपटान में लगी हुई हैं।

टांडा मेडिकल कॉलेज अस्पताल तथा कांगड़ा में 9 कमरों का वार्ड बनाया गया

साथ ही बताया जा रहा है की बर्ड फ्लू से निपटने के लिए टांडा मेडिकल कॉलेज अस्पताल तथा कांगड़ा में 9 कमरों का वार्ड बनाया गया है, ताकि फ्लू से संक्रमित मरीजों का उपचार सही तरीके से किया जा सके, साथ ही

इसके लिए अस्पताल में 18 बेड की व्यवस्था की भी की गई है। साथ ही फ्लू की जांच के लिए यहां एक लैब भी बनाई गई है।

विभाग ने यहां टैमी फ्लू दवा भी पहुंचा दी

प्राप्त जानकारी के अनुसार विभाग ने यहां टैमी फ्लू दवा भी पहुंचा दी है, ताकि जरूरत पड़ने पर कोई असुविधा न हो सके, यहां वार्ड और लैब का प्रभार टांडा

अस्पताल के डॉ. विक्रम शाह संभालेंगे साथ ही एमएस टांडा अस्पताल डॉ. सुरेंद्र भारद्वाज ने इसकी पुष्टि की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *