काँगड़ा के पौंग झील के पानी में बर्ड फ्लू का संक्रमण नहीं, नेगिटिव आई रिपोर्ट

हिमाचल प्रदेश के जिला कांगड़ा में स्थित पौंग बांध क्षेत्र में जहां हजारों प्रवासी पक्षियों की मौत का मामला हाल ही में सामने आने से प्रदेश भर की जनता बेहद परेशान थी, प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की काफी समय बाद अब राहत भरी खबर सामने आई है।

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की काँगड़ा के पौंग झील के पानी में बर्ड फ्लू का संक्रमण नहीं फैला है, इसी के साथ बताया जा रहा है की जांच के लिए जल शक्ति विभाग धर्मशाला भेजे पानी के चारों सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है।

पानी के सभी तत्वों की मात्रा मानक सीमा में आंकी गई

साथ ही कहा जा रहा है की लैब में 16 पैमानों पर परीक्षण किया गया और पानी के सभी तत्वों की मात्रा मानक सीमा में आंकी गई है, साथ ही यह रिपोर्ट का आकलन करने के बाद स्पष्ट हो गया है कि यहां मछलियों में किसी तरह के संक्रमण फैलने का डर नहीं है।

मछली की बिक्री पर प्रतिबंध जिला प्रशासन काँगड़ा के अगले फैसले तक जारी रहेगा

साथ ही बताया जा रहा है की हिमाचल के कांगड़ा जिले के देहरा, जवाली, इंदौरा और फतेहपुर उपमंडल में मीट-अंडों के साथ मछली की बिक्री पर प्रतिबंध जिला

प्रशासन काँगड़ा के अगले फैसले तक जारी रहेगा, साथ ही मत्स्य पालन विभाग के निदेशक सतपाल मेहता ने बताया कि हिमाचल में बर्ड फ्लू से मछलियां संक्रमित नहीं हुई हैं।

पानी की रिपोर्ट सामान्य आने के बाद अब सारी आशंकाएं खत्म

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की हिमाचल प्रदेश के दूसरे हिस्सों में अभी भी मछली पकड़ी व खाई जा रही है, साथ ही पानी की रिपोर्ट सामान्य आने के बाद अब सारी आशंकाएं खत्म हो गई हैं, तथा जनता को बेहद राहत मिली है।

वन्य प्राणी विभाग की प्रधान मुख्य अरण्यपाल अर्चना शर्मा ने दी जानकारी

साथ ही वन्य प्राणी विभाग की प्रधान मुख्य अरण्यपाल अर्चना शर्मा ने मंगलवार को जानकारी देते हुए प्रदेश में बर्ड फ्लू के संकट पर केंद्र सरकार की एक अहम बैठक में भाग लिया है, साथ ही कहा जा रहा है की भारत सरकार

के पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा आयोजित इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में बर्ड फ्लू के और अधिक फैलने से रोकने के उपायों पर चर्चा की गई है।

प्रदेश में बर्ड फ्लू को लेकर मौजूदा स्थिति से अवगत करवाया

अर्चना शर्मा ने मंत्रालय को प्रदेश में बर्ड फ्लू को लेकर मौजूदा स्थिति से अवगत करवाया साथ ही उन्होंने हिमाचल प्रदेश सरकार के वन्य जीव विंग के बर्ड फ्लू से निपटने के प्रयासों के बारे में भी मंत्रालय को विस्तृत जानकारी दी है।

विशेषज्ञों की टीम ने प्रवासी पक्षियों की मौत

साथ ही कहा जा रहा है की इससे पहले भारत सरकार की ओर से हिमाचल भेजी गई विशेषज्ञों की टीम ने प्रवासी पक्षियों की मौत की स्थिति का अवलोकन करने के

बाद सोमवार को जिला प्रशासन के साथ बैठक की थी, जिस में बहुत सी महत्वपूर्ण बातो पार चर्चा की गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *