राजधानी शिमला में पेयजल मीटरों की जांच में एक और चौंकाने वाला मामला सामने

हिमाचल प्रदेश की राजधानी में पेयजल मीटरों की जांच में एक और चौंकाने वाला मामला सामने आया है, प्राप्त जानकारी के अनुसार कहा जा रहा है की शिमलाशहर के कई निजी होटल सालों से मुफ्त का पानी डकार रहे हैं, साथ ही कहा जा रहा है की इनमें 80 से ज्यादा पेयजल मीटर ऐसे मिले हैं जिनका कोई रिकॉर्ड ही नहीं है।

 शहर में सभी होटलों को कुल 605 व्यावसायिक कनेक्शन दिए गए

साथ ही बताया जा रहा है की होटलों में यह मीटर कब और कैसे लगे हैं, साथ ही कहा जा रहा इस पर पेयजल कंपनी के पास भी कोई जवाब नहीं है, तथा कंपनी के रिकॉर्ड के अनुसार शहर में सभी होटलों को कुल 605 व्यावसायिक कनेक्शन दिए गए हैं।

अभियंताओं की टीम फील्ड में उतरी तो चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई

जानकारी के अनुसार बीते महीने कंपनी ने सभी वार्डों के कनिष्ठ अभियंताओं को शहर में गायब हुए हजारों मीटरों का पता लगाने का जिम्मा सौंपा था, इसी के साथ इसके साथ ही शहर के सभी होटलों का निरीक्षण कर उनमें लगे पेयजल मीटरों का पता करने को कहा था तथा जब अभियंताओं की टीम फील्ड में उतरी तो चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने आई है।

शहर के होटलों में 605 नहीं बल्कि 685 से ज्यादा पेयजल मीटर लगे हुए मिले

शिमला शहर के होटलों में 605 नहीं बल्कि 685 से ज्यादा पेयजल मीटर लगे हुए मिले है, इन सभी मीटरों का पानी होटल संचालक इस्तेमाल कर रहे हैं, साथ ही कहा जा रहा है की अब 80 से ज्यादा अतिरिक्त मीटर होटलों में कैसे लगे, इसका पता नहीं चल पा रहा है।

कई होटलों ने फर्जी तरीके से कनेक्शन लिए गए

कहा जा रहा है की अंदेशा है कि कई होटलों ने फर्जी तरीके से कनेक्शन लिए गए हैं, साथ ही अभियंता भी हैरान हैं कि उनके वार्डों में आखिर रिकॉर्ड से ज्यादा मीटर कैसे लगे है, इसी के साथ आने वाले दिनों में इसकी जांच में और खुलासे हो सकते हैं।

राजधानी के कई होटलों को दो से तीन साल से पानी के बिल जारी नहीं हुए

हिमाचल प्रदेश की राजधानी के कई होटलों को दो से तीन साल से पानी के बिल जारी नहीं हुए हैं, तथा कई होटल मालिक बिल मिलने का इंतजार भी कर रहे हैं बताया जा रहा है की कंपनी बिल जारी नहीं कर रही है, जिस से होटलों को व्यावसायिक दरों पर पानी बिल जारी होते हैं तथा हर होटल का सालाना बिल लाखों रुपये बनता है, लेकिन कंपनी इन्हें बिल जारी नहीं कर पा रही है, कहा जा रहा है इस से जुड़े अभी और भी कई मामले सामने आ सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *