लाहौल स्पीति में पहली से पांचवीं कक्षा तक बच्चों को मिलने वाली छात्रवृत्ति में बड़ा घोटाला

economi himachal

हिमाचल प्रदेश के जिला लाहौल स्पीति में पहली से पांचवीं कक्षा तक बच्चों को पैटर्न के तहत मिलने वाली छात्रवृत्ति बच्चों और अभिभावकों के लिए भद्दा मजाक

बन कर रह गई है, प्राप्त जानकारी के अनुसार कहा जा रहा है की यह छात्रवृत्ति 65 साल में महज 06 रुपये बढ़ोतरी के साथ 08 रुपये में सिमटकर रह गई है।

1956 में 02 रुपये प्रतिमाह छात्रवृत्ति दी जाती

इसी के साथ कहा जा रहा है की 1956 में 02 रुपये प्रतिमाह छात्रवृत्ति दी जाती थी, साथ ही इसमें वर्ष 1994 में महज 06 रुपये की बढ़ोतरी की गई है तथा यह छात्रवृत्ति साल में 10 माह की ही मिलती है,

स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ जिले के लोगों ने इस छात्रवृत्ति को बंद करने या सरकार से इसे बढ़ाने की मांग की गयी है।

1956 में प्राइमरी स्कूलों के अध्यापकों का वेतनमान 14 रुपये प्रतिमाह

इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि 1956 में प्राइमरी स्कूलों के अध्यापकों का वेतनमान 14 रुपये प्रतिमाह था, साथ ही आज JBT का वेतनमान प्रतिमाह 50 हजार से अधिक है, लेकिन छात्रवृत्ति की राशि में बढ़ोतरी नहीं हुई है।

लाहौल-स्पीति पैटर्न की यह छात्रवृत्ति लाहौल-स्पीति जिले के लिए ही एक भद्दा मजाक बनकर रह गई

साथ ही कहा जा रहा है की तांदी पंचायत के पूर्व प्रधान सुरेश कुमार, सिस्सू पंचायत प्रधान सुमन, जिप सदस्य छिमेद लामो तथा राजकुमार, सुरेश लाल,

राजेंद्र ठाकुर और राजीव कुमार ने जानकारी देते हुए कहा कि लाहौल-स्पीति पैटर्न की यह छात्रवृत्ति लाहौल-स्पीति जिले के लिए ही एक भद्दा मजाक बनकर रह गई है।

समेत जिले के 1167 बच्चों को महज 93360 रुपये ही छात्रवृत्ति दी जाएगी

बताया जा रहा है की यह छात्रवृत्ति बच्चों को मार्च में मिलेगी, साथ ही इसमें लाहौल स्पीति की 112 प्राथमिक पाठशालाओं के 672 तथा स्पीति की 69

प्राथमिक पाठशालाओं के 495 बच्चों समेत जिले के 1167 बच्चों को महज 93360 रुपये ही छात्रवृत्ति दी जाएगी।

इस मामले में उपायुक्त लाहौल-स्पीति के आदेशों का पालन किया जाएगा

शिक्षा उपनिदेशक लाहौल सुरजीत राव ने कहा कि वह इस मामले में उपायुक्त लाहौल-स्पीति के आदेशों का पालन किया जाएगा, जैसे ही उन्हें अनुमति मिलेगी, वह लाहौल-स्पीति पैटर्न छात्रवृत्ति को लेकर उच्च अधिकारियों से पत्राचार करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *