99 साल बाद दो रियासतकालीन देवी देवता पहुंचेंगे अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव में

himachal pradesh mandi

हिमाचल प्रदेश के जिला मंडी के अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव में इस बार 99 साल बाद रियासतकालीन देवी वायला गुसैण और 57 साल बाद देव खमराधा

मार्कंडेय शिरकत करेंगे, इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की दोनों देवता मान सम्मान को लेकर रुष्ट चल रहे थे।

इस बार शिवरात्रि में प्रशासन और देव समाज की पहल रंग लाई

इसी के साथ कहा जा रहा है की इस बार शिवरात्रि में प्रशासन और देव समाज की पहल रंग लाई है, साथ ही बताया जा रहा है की दोनों महोत्सव में आने की हामी भर

दी है तथा देवलुओं में भी इस बार महाशिवरात्रि महोत्सव में पहुंचने के लिए उत्साह है, इसी के साथ कहा जा रहा है की देवता 11 मार्च को ढोल नगाड़ों के साथ मंडी पहुंचेंगे।

देवी वायला गुसैण और देव वायला नारायण के अलग-अलग रथ

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की देवी वायला गुसैण जंजैहली के कारदार हीरा सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि देवी वायला गुसैण और देव वायला

नारायण के अलग-अलग रथ हैं, साथ ही देवी वायला गुसैण 1922 के बाद अब 2021 में मंडी महाशिवरात्रि में पहुंच रही हैं।

देव खमरादा 1964 के बाद मंडी शिवरात्रि मेला में आएंगे

साथ ही कहा जा रहा है की देवी के रथ को 8 लोग उठाते हैं तथा देवी पैदल सफर कर 11 को महाशिवरात्रि के लिए मंडी पहुंचेंगी साथ ही बताया जा रहा है की देव

खमराधा मार्कंडेय औट के कारदार भगत सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि देव खमरादा 1964 के बाद मंडी शिवरात्रि मेला में आएंगे।

मंडी के शिवरात्रि मेले में 02 प्राचीन देवता अपनी उपस्थिति दे रहे

प्राप्त जानकारी के अनुसार कहा जा रहा है की सर्व देवता सेवा समिति के अध्यक्ष शिवपाल शर्मा ने बताया कि इस वर्ष मंडी के शिवरात्रि मेले में 02 प्राचीन देवता

अपनी उपस्थिति दे रहे हैं तथा यह देवता रियासत कालीन हैं और रियासत काल के समय से आज तक इनको निमंत्रण पत्र प्रशासन की ओर से लगातार जाते रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *