बड़सर के वनो में खैर कटान मामले में वन विभाग ने डिप्टी रेंजर के साथ फॉरेस्ट गार्ड पर भी चार्जशीट दाखिल

हिमाचल प्रदेश में उपमंडल बड़सर के वन खंड बिझड़ी के तहत वन बीट पैरवीं के खारल जंगल से खैर कटान मामले में वन विभाग ने डिप्टी रेंजर के साथ फॉरेस्ट गार्ड पर भी चार्जशीट दाखिल कर दी गयी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की विभागीय कमेटी की प्रारंभिक जांच में दोनों कर्मचारी दोषी पाए गए हैं।

दोनों को वन क्षेत्र ऊना स्थानांतरण कर दिया गया

इसी के साथ दोनों को वन क्षेत्र ऊना स्थानांतरण कर दिया गया। साथ ही बताया जा रहा है की प्रदेश में फैले कोरोना के चलते लॉकडाउन में बीते मार्च में इस वन बीट मेंअवैध रूप से 48 खैर के पेड़ काटे गए थे। जिस पर यह चार्जशीट दाखिल हुई है।

विभागीय जांच में पेड़ों के सरकारी भूमि से काटे जाने की पुष्टि

इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की स्थानीय लोगों ने विभाग को इसकी शिकायत दी। साथ ही जांच में कटे खैर के पेड़ तो नहीं मिले, लेकिन विभागीय जांच में पेड़ों के सरकारी भूमि से काटे जाने की पुष्टि विभाग द्वारा की गयी है।

प्रारंभिक जांच में डिप्टी रेंजर और फॉरेस्ट गार्ड की लापरवाही सामने

इसके बाद विभागीय जांच के लिए कमेटी का गठन भी किया है। इसी के साथ प्रारंभिक जांच में डिप्टी रेंजर और फॉरेस्ट गार्ड की लापरवाही सामने आने पर इन्हें चार्जशीट कर दोनों को ऊना जिले में तैनात कर दिया गया।

वन बीट में पेड़ कटान की जानकारी या शिकायत समय पर पुलिस और विभाग को नहीं दी गयी

इसी के साथ डीएफओ हमीरपुर एलसी वंदना ने जानकारी देते हुए बताया कि जांच में कर्मचारियों की कोताही सामने आई है और अपनी वन बीट में पेड़ कटान की जानकारी या शिकायत समय पर पुलिस और विभाग को नहीं दी गयी थी।

इसी के चलते एक डिप्टी रेंजर और फॉरेस्ट गार्ड पर आरोप पत्र दाखिल किया गया है। बताया जा रहा है की इस मामले में विभागीय जांच चल रही है। साथ ही बता दें कि मार्च में कटान होने के बाद जुलाई में इसकी शिकायत विभाग को दी गयी थी।

विभाग के डिप्टी रेंजर और फॉरेस्ट गार्ड को अगस्त माह में कारण बताओ नोटिस जारी किए थे

प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रारंभिक जांच में लापरवाही सामने आने पर विभाग के डिप्टी रेंजर और फॉरेस्ट गार्ड को अगस्त माह में कारण बताओ नोटिस जारी किए थे। जिस में उनसे इस कटान को लेकर जबाब माँगा गया था। मगर इन दोनों के पास इस मामले को लेकर कोई जवाब नहीं दिया।

सितंबर में चीफ कंजरवेटर की अध्यक्षता में जांच के लिए गठित कमेटी ने प्रारंभिक जांच

साथ ही सितंबर में चीफ कंजरवेटर की अध्यक्षता में जांच के लिए गठित कमेटी ने प्रारंभिक जांच के आधार पर दोनों को चार्जशीट कर ऊना जिला के लिए तबादला कर दिया है। साथ ही इस मामले की जांच की जा रही है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *