हिमाचल में किसानो और बागवानों ने सब्जी उत्पादन में नया मुकाम हासिल

himachal farmers

हिमाचल प्रदेश के किसानो और बागवानों ने सब्जी उत्पादन में नया मुकाम हासिल किया है, इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की पहली बार सब्जियों की पैदावार का ग्राफ 18 लाख मीट्रिक टन के आंकड़े को पार कर दिया है।

सब्जी के उत्पादन का आंकड़ा 2019-20 में 1860.67 हजार मीट्रिक टन तक जा पहुंचा

इसी के साथ बताया जा रहा है की बेमौसमी सब्जी को दी जा रही प्राथमिकता के बीच 1951-52 में 200 हजार टन से बढ़कर सब्जी के उत्पादन का आंकड़ा 2019-20 में 1860.67 हजार मीट्रिक टन तक जा पहुंचा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कहा जा रहा है कि 2018-19 के 1722.14 हजार मीट्रिक टन के मुकाबले भी करीब 138 हजार मीट्रिक टन ज्यादा है, इसी के साथ

इस समय हिमाचल प्रदेश में करीब 80 हजार हेक्टेयर भूमि पर सब्जी उत्पादन किया जा रहा है और सब्जी उत्पादन की सालाना आय 4000 करोड़ रुपए के आसपास है।

2018-19 की तुलना में भी करीब 32 हजार मीट्रिक टन अधिक रहा

हिमाचल प्रदेश की अहम फसल मक्की का उत्पादन इस दौरान 67.30 हजार मीट्रिक टन से बढ़कर 762 हजार मीट्रिक टन पहुंच गया है साथ ही कहा जा रहा है की यह 2018-19 की तुलना में भी करीब 32 हजार मीट्रिक टन अधिक रहा है।

गेहूं उत्पादन में भी प्रदेश के किसानों ने कोई कमी नहीं छोड़ी

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की इन 07 दशकों में धान का उत्पादन 28.3 हजार मीट्रिक टन के मुकाबले 135.20 हजार मीट्रिक टन के आंकड़े को छू गया है, साथ ही कहा जा रहा है की गेहूं उत्पादन में भी

हिमाचल प्रदेश के किसानों ने कोई कमी नहीं छोड़ी है और 1951-52 में हुए 61.20 हजार मीट्रिक टन से बढ़कर 672 हजार मीट्रिक टन तक पहंचा दिया गया है।

आलू उत्पादन 1.60 हजार टन से 196.30 हजार मीट्रिक टन पहुंच गया

प्रदेश में इस अवधि में आलू उत्पादन 1.60 हजार टन से 196.30 हजार मीट्रिक टन पहुंच गया है, साथ ही कहा जा रहा है की 07 दशक के अंतराल में किसानों की मेहनत, नवीनतम तकनीकों के प्रयोग और सरकारी नीतियों के चलते खाद्यान्न व सब्जी उत्पादन में हिमाचल प्रदेष हर साल आगे बढ़ रहा है।

इसी के साथ कहा जा रहा है की केंद्र व हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ लेकर किसान उत्पादन को नए स्तर पर ले जा रहे हैं, जिस से प्रदेश तथा किसानो को बेहद लाभ मिल पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *