मनाली-लेह मार्ग इस साल मई की जगह अप्रैल में ही सेना के लिए बहाल हो जाएगा

himaachal pradesh rohtang pass

हिमाचल प्रदेश में सामरिक महत्व का 427 किलोमीटर लंबा मनाली-लेह मार्ग इस साल मई की जगह अप्रैल में ही सेना के लिए बहाल हो जाएगा, इसी के साथ प्राप्त

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की इस बार BRO ने पूरा फोकस 16 ,043 फीट ऊंचे बारालाचा और मनाली-लेह मार्ग को बहाल करने पर लगा दिया गया है।

इस साल अपेक्षा से कम बर्फबारी होने से सेना की आवाजाही रिकॉर्ड समय में शुरू हो जाएगी

इसी के साथ कहा जा रहा है की हिमाचल प्रदेश के जिला कुल्लू के रोहतांग दर्रा समेत मनाली-लेह मार्ग में आने वाले सभी दर्रों में इस साल अपेक्षा से कम बर्फबारी होने से सेना की आवाजाही रिकॉर्ड समय में शुरू हो जाएगी,

साथ ही कहा जा रहा है की मनाली-लेह मार्ग के बीच आने वाले रोहतांग दर्रा को बहाल करने की बीआरओ को जरूरत नहीं पड़ेगी।

अटल टनल रोहतांग ने मनाली-लेह मार्ग के सफर को आसान बना दिया

जानकारी के अनुसार कहा जा रहा है की हर बार BRO द्वारा रोहतांग को खोलने में सबसे अधिक करीब ढाई से तीन माह का समय लगाता है, साथ ही ऐसे में अटल टनल रोहतांग ने मनाली-लेह मार्ग के सफर को आसान बना

दिया है, जो यहां के स्थायी लोगो के साथ भारतीय सेना के लिए भी लाभकारी साबित होगा, साथ ही ऐसे में मनाली-लेह मार्ग को बहाल करने के लिए BRO कई मोर्चों से लगा है।

BRO ने हर दर्रे पर सीमा सड़क संगठन के अलग-अलग टीमें लगा रखी

इसी के साथ कहा जा रहा है की हर दर्रे पर सीमा सड़क संगठन के अलग-अलग टीमें लगा रखी हैं, साथ ही ऐसे में बारालाचा के साथ जिंगजिंगबार व सरचू को बहाली का काम रात दिन चला है,

जिस से वो रास्ता भी जल्द ही बहाल कर दिया जाएगा, साथ ही BRO ने इस बार मनाली-लेह मार्ग को बहाल करने का लक्ष्य 15 अप्रैल रखा है,

इसी के साथ बाद में सामरिक महत्व के मनाली-लेह मार्ग पर सेना की आवाजाही शुरू हो जायेगी, साथ ही पिछले साल मनाली-लेह मार्ग 20 मई के आसपास खुल गया था और सेना की कानवाई जून तक शुरू हो पाई थी।

BRO के मुताबिक 427 किलोमीटर लंबे हाइवे में बर्फ कम

प्राप्त जानकारी के अनुसार कहा जा रहा है की BRO ने करीब 60 फीसदी तक मनाली-लेह मार्ग से बर्फ को हटा दिया है, साथ ही बताया जा रहा है की BRO के

मुताबिक 427 किलोमीटर लंबे हाइवे में बर्फ कम है तथा इस कारण रिकॉर्ड समय में मनाली-लेह मार्ग सेना के वाहनों के लिए खुल जाएगा, साथ ही कहा जा रहा है की BRO

के कमांडर उमा शंकर ने जानकारी देते हुए बताया कि बीआरओ का फोकस मनाली-लेह मार्ग पर है और बारालाचा दर्रा को बहाल करने में जुटा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *