ट्राउट फिश के शौकीन अगले महीने से कोलबांध की ट्राउट का स्वाद चख सकेंगे

himachal pradesh trout

हिमाचल प्रदेश में ट्राउट फिश के शौकीन अगले महीने से कोलबांध की ट्राउट का स्वाद चख सकेंगे, इसी के साथ प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है की

सर्दियों में कोलबांध जलाशय में ट्राउट फिश पर किया गया शोध सफल रहा है, साथ ही केवल 04 माह में 350 ग्राम वजन की ट्राउट फिश तैयार हो गई है।

80 फीसदी यानी करीब 3 टन ट्राउट की सप्लाई कर दी जाएगी

हिमाचल प्रदेश में स्तिथ झीलों में मार्च में झील में डाली गई 80 फीसदी यानी करीब 3 टन ट्राउट की सप्लाई कर दी जाएगी, साथ ही कहा जा रहा हैं की मत्स्य

विभाग ने ट्रायल के लिए बिलासपुर के हरनोड़ा स्थित कोलबांध झील में 04 चरणों में ट्राउट फिश का बीज डाला था।

विभाग ने सितंबर के अंत से यह प्रक्रिया शुरू की

इसी के साथ बताया जा रहा है की विभाग ने सितंबर के अंत से यह प्रक्रिया शुरू की थी, साथ ही कहा जा रहा है की फरवरी में इसका सफल परिणाम सामने आया है,

साथ ही बताया जा रहा है की सितंबर में विभाग ने कोलबांध में ट्राउट का करीब 23 हजार बीज डाला था तथा उसके बाद भी बीज डाला गया, यह मिलाकर 30 हजार हुआ।

ट्राउट तैयार होने में करीब 14 से 15 माह लगते

इसी के साथ विभाग की मानें तो पहले हिमाचल प्रदेश के जिला कुल्लू, जिला मंडी और जिला चंबा में ही ट्राउट का उत्पादन होता है, लेकिन देश के महानगरों में बढ़ रही हिमाचली ट्राउट फिश की मांग को पूरा करने के लिए

विभाग इसके उत्पादन का बढ़ाने में जुटा हुआ है, हिमाचल प्रदेश में अन्य जगह ट्राउट तैयार होने में करीब 14 से 15 माह लगते हैं।

कोलबांध में यह केवल 04 माह में तैयार हो गई

साथ ही कहा जा रहा है की कोलबांध में यह केवल 04 माह में तैयार हो गई है, साथ ही विभाग अब गर्मियों में भी झील में ट्राउट का ट्रायल करेगा, इसी के साथ

हिमाचल प्रदेश में सालाना 600 मीट्रिक टन ट्राउट का उत्पादन होता है, लेकिन विभाग ने 05 साल में इसे दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *