भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह 12 मई को चंबा में आयेंगे

0
71
BJP President Amit Shah will arrive in Chamba on May 12

कांगड़ा-चंबा संसदीय क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी किशन कपूर ने बताया कि 12 मई को भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह चंबा में जनसभा को संबोधित करेंगे। उन्होंने कहा कि मौजूदा चुनावों में लोगों में भाजपा के प्रति उत्साह है। हिमाचल में भी भाजपा की लहर चल रही है। वहीं कांग्रेस नेता आपस में एक दूसरे को नीचा दिखाने में लगे हैं। प्रदेश के लोग एक साल पहले ही कांग्रेस पार्टी को सत्ता से बाहर कर चुके हैं।

आम जनता के फायदे वाली योजनाओं का असर साफ-साफ दिख रहा है

कपूर ने कहा मोदी सरकार की आम जनता के फायदे वाली योजनाओं का असर साफ-साफ दिख रहा है। इसके साथ ही राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे को उन्होंने प्राथमिकता दी है। पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया । इससे देश की सेनाओं और आम जनता का मनोबल काफी बढ़ा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस शासन के छह दशक विकास की दृष्टि देश में बहुत मामूली योगदान कर पाएं। जबकि नरेन्द्र मोदी सरकार ने पिछले पांच सालों में विकास के मामले में बहुत कुछ किया।

जिहादी आंतकवादियों को पकडऩे के लिए मोदी सरकार ने सख्त कदम उठाए

जम्मू-कश्मीर में जिहादी आंतकवादियों को पकडऩे के लिए मोदी सरकार ने सख्त कदम उठाए और पांच साल में सैंकड़ां आंतकवादियों को ढेर कर दिया। दूसरा पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक का सहारा लिया इससे दुनिया भर में भारत की इज्जत बढ़ी और जनता ने खुद को सुरक्षित महसूस किया। यही वजह है कि आज आम जनता प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी को वोट देने के लिए प्रतीक्षा कर रही है।

पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह पर हमला

कपूर ने पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह पर हमला करते हुए कहा कि वीरभद्र सिंह तो ऐसे नेता हैं जो अनाप-शनाप बयानबाजी के बाद हमेशा मुकरने की महारत रखते हैं। उन्होंने कहा कि वीरभद्र सिंह का इस मर्तबा जब ऊपर-नीचे की राजनीति का पैंतरा नहीं चल रहा तो अब उन्होंने जाति का दांव खेलना शुरू कर दिया है। उसके साथ ही कांग्रेस की हार देखकर बौखलाहट में अनाप शनाप बयानबाजी कर रहे हैं।

भाजपा प्रत्याशी ने कहा कि इस बार शतरंज के मोहरे नहीं चलेंगे। मंडी सीट से भाजपा प्रत्याशी राम स्वरूप शर्मा सीएम वीरभद्र सिंह की पत्नी को हरा चुके है इस बार सुखराम को पोते आश्रय की बारी है। इस हार के साथ ही राजनीति के शतरंज के खिलाड़ी कहे जाने वाले पं. सुखराम की राजनीति का भी अंत होगा।