पांगी की जनता अंधेरे में रहने को मजबूर

जिला चम्बा के अंतर्गत आने वाले जनजातीय क्षेत्र पांगी में बिजली बोर्ड की मुसीबतें बढ़ती जा रही है। पावर हाउस किलाड़, साच के साथ-साथ सुराल पवार हाउस अधर में अटका हुआ है, जिसका काम काफी समय से कामचलाऊ ही हो रहा है। जिस की बजह से पिछले तीन महीनों से तीन पंचायतें लुज, धरवास और सुराल अंधेरे में है। लोग इससे बहुत परेशान हो गए हैं क्योंकि इस ओर न तो बिजली बोर्ड सख्त है और न ही प्रशासन को कोई सकारात्मक रुख दिखाई दे रहा है।

अगर वक्त रहते ठीक न किया तो 16 पंचायतें अंधेरे में आ जाएंगी

इसी के साथ दूसरी ओर किलाड़ पावर हाउस का भी बुरा हाल है, क्योंकि साच पावर हाउस की पाइपें झूला खा रही है। इसे वक्त रहे ठीक नहीं किया गया तो आने वाले टाइम में 16 पंचायतें अंधेरे में आ जाएंगी । सरकारें आती हैं और जाती हैं साथ में ही सरकार बड़ी बड़ी बादे तो करती है लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही होती है। जिसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ रहा है।

यह कहना मुश्किल है कि पांगी घाटी के लोगों के अच्छे दिन कब आयेंगे, पांगी घाटी के लोग अपनी मूलभूत सुविधाओं को पाने के लिए कभी भी सड़क पर नहीं उतरी और न ही कभी पांगी की समस्याओं की चिंता पांगी के बुद्धिजीवी नेताओं ने की। लोगों कि समस्या को लेकर विपक्षी दल सरकार को घेरने की कोशिश तो कर रही है लेकिन अब तो वो भी बेबस नजर आ रहा है।

ये भी पढ़ें :

Recommended For You

About the Author: Aakanksha Kathoch