प्रदेश में रेलवे की 22 कनाल भूमि नीलाम किसानों को दिया जायेगा उचित मुआवजा

farmer

हिमाचल प्रदेश में रेलवे के विस्तार के लिए जिन किसानो की भूमि रेलवे में आई है, उनको सरकार द्वारा उचित मुआवज़ा दिया जायेगा। इसी के साथ किसानों को उनकी भूमि का उचित मुआवजा न मिलने पर भारतीय रेलवे की भूमि की नीलामी

को लेकर अदालत के आदेश पर बुधवार को दूसरे चरण की नीलामी करवाई गई। इसके अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत के आदेश पर बुधवार को हिमाचल प्रदेश के जिला ऊना के त्यूड़ी में रेलवे की संपत्ति की नीलामी की गई।

22 कनाल भूमि की नीलामी में करीब 15 लोग रहे मौजूद

जानकारी के अनुसार करीब 22 कनाल भूमि की नीलामी में करीब 15 लोग पहुंचे थे। इस नीलामी में 10 लाख से शुरू हुई बोली में करीब 12 लोगों ने हिस्सा नहीं लिया।

सिर्फ 03 लोगों ने रेलवे भूमि को लेकर बोली लगाई। जानकारी के मुताबिक हरि मोहन शर्मा ने सर्वाधिक 16 लाख 50 हजार रुपये की बोली लगाई। यह पूरी नीलामी की प्रिक्रिया ऊना के तहसीलदार विजय राय की देखरेख में की गयी।

राजस्व महकमे की ओर से मुनादी करवाई की गई

इसके साथ ही यदि गौर किया जाए तो बीते 5 मार्च को इसके पहले चरण की नीलामी हुई थी। जिसमे लगभग 21 बोली लगाने वाले व्यक्ति पहुंचे थे। जिसमे उच्चतम बोली 13 लाख रुपये लगी थी।

फरवरी में राजस्व महकमे की ओर से इसके लिए मुनादी करवाई गई थी कि राजस्व महकमा रेलवे की भूमि की नीलामी करवाएगा और यह नीलामी भी पटवार कार्यालय पनोह में रखी गई थी।

यहां इस भूमि की न्यूनतम बोली 10 लाख से शुरू हुई थी। इसकी रिपोर्ट इसी महीने अंत तक राजस्व महकमा अदालत में पेश करेगा। इससे पूर्व 28 फरवरी को हुई नीलामी में अजनोली गांव के संजीव कुमार ने सबसे अधिक बोली 17 लाख रुपये में उठाई थी। जिसमें रेलवे की करीब 58 कनाल भूमि थी।

22 kanals of railway land in the state will be given fair compensation to auctioned farmers

Recommended For You

About the Author: Ajay Rana