हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध पैराग्लाइडिंग प्री-वर्ल्ड पर कोरोना वायरस का संकट

kangra

हिमाचल प्रदेश में होने वाले प्रसिद्ध पैराग्लाइडिंग प्री-वर्ल्ड पर कोरोना वायरस का संकट मंडरा रहा है। भारत सरकार ने विदेशी मेहमानों के वीजा इस वायरस की बजह से कैंसिल कर दिए गए हैं, ऐसे में काँगड़ा घाटी के पालमपुर के बिलिंग में होने वाले पैराग्लाइडिंग प्री-वर्ल्ड कप पर भी संकट के बादल छा गए हैं। कोरोना वायरस के चलते इसके आयोजन पर सस्पेंस है। इसके साथ ही गौर कि बात यह है की बिलिंग में पैराग्लाइडिंग की प्रतिस्पर्धाओं के लिए दुनिया भर के करीब 20 से 30 देशों के पैराग्लाइडर पहुंचते हैं। जो प्रितियोगिता में भाग लेते है।

30 मार्च से 05 अप्रैल तक प्रस्तावित हुई है यह पैराग्लाइडिंग प्री-वर्ल्ड कप प्रतियोगिता

इस वर्ष भी 29 देशों से लगभग 121 पायलट्स ने 30 मार्च से 05 अप्रैल तक प्रस्तावित पैराग्लाइडिंग प्री-वर्ल्ड कप के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करवाया है। जानकारी के अनुसार अब कोरोना के प्रकोप के चलते भारत सरकार ने 13 मार्च से 15 अप्रैल तक सभी विदेशी पर्यटकों के वीजा निरस्त कर दिए हैं।

जानकारी के अनुसार ऐसे में पैराग्लाइडिंग की इस प्रतिस्पर्धा पर भी काले बादल मंडरा ने शुरू हो गए हैं। बता दें कि 30 मार्च से पांच अप्रैल तक होने वाले प्री-वर्ल्ड कप व इंडियन नेशनल्स ओपन कप का आयोजन प्रदेश के पर्यटन विभाग व अटल बिहारी पर्वतारोहण संस्थान मनाली द्वारा किया जाना प्रस्तावित हुआ है।

पर्टयन स्थानों में रखी जाएगी विशेष नजर

प्रदेश में आयोजित इस प्रितियोगिता के लिए सडीएम बैजनाथ छवि नांटा का कहना है कि प्रशाशन ने सभी होटलों, तिबेतन मोनिस्टरीज को आदेश पारित किए हैं कि उनके यहां आए सभी विदेशियों के बारे में प्रशासन को जानकारी दी जाए। इसके अलावा हैल्थ डिपार्टमेंट यहां बाहर से आए लोगों पर नजर बनाए हुए है। फिर से भी प्रशाशन पुनः जांच करवायगा।

स्वास्थ्य छवि नांटा ने कहा कि जो विदेशी कैंपिंग साइट्स में रह रहे हैं। शीघ्र ही उनकी जांच की जाएगी और प्रदेश पुलिस को भी आदेश दिए जाएंगे कि वह भी ऐसे लोगों पर नजर रखे। और यदि उन को किसी विदेशी व्यक्ति पर शक है तो विभाग को सूचित करे।

वायरस का असर स्थानीय लोगों के कारोबार पर भी पड़ा

इसके दौरान हिमाचल की प्रसिद्ध बिलिंग में मानव परिंदे ही नहीं, अन्य पर्यटक भी यहां साल भर डेरा डाले रहते हैं। मगर इस साल इस कोरोना वायरस की बजह से यहां पर्टयकों का आना जाना कम हो गया है। यह संस्थान पर्यटन की दृष्टि से भी महत्त्वपूर्ण है।

यहां पहुंचने वाले सैलानियों पर स्थानीय लोगों का कारोबार भी निर्भर करता है और इस वायरस की बजह से करोबारियों को भी नुक्सान हुआ है। ऐसे में यदि यहां मेहमान ही नहीं आएंगे, तो पर्यटन कारोबार पर भारी असर पड़ना भी स्वाभाविक है। इस कोरोना वायरस की बजह से यहां होटल्स, और कैफे भी खाली है।

Corona virus crisis on Himachal Pradesh's famous paragliding pre-world

Recommended For You

About the Author: Vedika Rana