प्रदेश में आयोजित सेवानिवृत्ति के अफसर पर वरिष्ठ न्यायाधीश “धर्म चंद चौधरी” ने साझा किए अपने विचार

हिमाचल प्रदेश में आयोजित सेवानिवृत्ति के अफसर पर न्यायिक संस्थान लोकतंत्र का स्तंभ की बात कहि गयी। अधीनस्थ न्यायालय न्यायिक प्रणाली की महत्त्वपूर्ण कड़ी है। इसी के साथ इन अदालतों में कार्यरत न्यायाधीश और स्टाफ को हाई कोर्ट से उपयुक्त सरंक्षण की जरूरत है, उन्हें उपयुक्त सरंक्षण प्रदान किया जाना चाहिए।

ताकि निष्पक्ष निर्भीक व बिना किसी द्वेष से हर किसी को न्याय प्रदान किया जा सके। अधीनस्थ जज भी न्याय निष्पादन प्रणाली में वही भूमिका अदा करते हैं। जो उच्च न्यायालय में कार्यरत जज निभाते हैं।

हाईकोर्ट में फुल कोर्ट एड्रेस आयोजित

इसी के साथ यह भी कहा गया की न्यायिक प्रणाली जितनी मजबूत होगी। उतना ही बेहतर होगा। यह जानकारी महत्त्वपूर्ण न्यायाधीश धर्मचंद चौधरी ने अपनी सेवानिवृत्ति के अवसर पर हाई कोर्ट में आयोजित फुल कोर्ट रेफरेंस के दौरान कही उन्होंने अपने विचारो को प्रकट किया।

प्रदेश हाईकोर्ट के वरिष्ठ न्यायाधीश धर्मचंद चौधरी के सेवानिवृत्त होने पर हाईकोर्ट में फुल कोर्ट एड्रेस आयोजित किया गया और विदाई समारोह पर दिए संबोधन के दौरान अपने जीवन में अपने परिजनों विशेषत कर अपनी धर्मपत्नी प्रोमिला देवी के सहयोग व उनका डेढ़ वर्षीय पोते अश्मयू के स्नेह को याद करते समय न्यायाधीश चौधरी भावुक भी हुए।

साधारण परिवार से न्यायिक क्षेत्र तक का सफर

उन्होंने अपनी अभी तक की जीवन यात्रा को याद करते हुए कहा कि वे बेहद ही साधारण कृषक परिवार में पैदा हुए, जिनके परिवार में कोई भी सदस्य न्यायिक क्षेत्र में नहीं था। प्रदेश में अपने पिता स्व, नरोत्तम राम व माता दलतु देवी को याद

करते हुए कहा कि उन्होंने बच्चों को बेहतर शिक्षा प्रदान करने के लिए अपना सब कुछ त्याग दिया था। जिस का फल उन्हें मिला है। उनके दिए आशीर्वाद व संस्कारों की बदोलत ही वह इन ऊंचाइयों को छू सके और इस मुकाम पर पहुंच पाए है।

विभिन्न मत्वपूर्ण सख्श रहे मौजूद

इस शुभ अवसर में प्रदेश महाधिवक्ता अशोक शर्मा, असिस्टेंट सॉलिसिटर जनरल राजेश शर्मा, बार काउंसिल के अध्यक्ष रमाकांत शर्मा, बार एसोसिएशन अध्यक्ष एनएस चंदेल, हाई कोर्ट के तमाम न्यायाधीश, सेवानिवृत्त न्यायाधीश पीएस

राणा, बार एसोसिएशन के सदस्य तथा हाई कोर्ट के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे। फुल कोर्ट रेफरेंस के पश्चात न्यायाधीश चौधरी को गॉर्ड ऑफ ऑनर देकर विदाई दी गई और सभी न्याय कार्यकर्ता ने उन्हें बधाई दी।

Senior Judge “Dharam Chand Chaudhary” shared his views on the retirement officer held in the state

Manjeet Kumari

Next Post

10+2 कक्षा के Hindi एवं Chemistry की परीक्षा में उड़नदस्तों ने पकड़े 10 नकलची

Thu Mar 12 , 2020
जिला ऊना स्कूल शिक्षा बोर्ड की परीक्षा के उपरांत बुधवार को 10+2 कक्षा के Hindi एवं Chemistry की परीक्षा में […]
student

News ticker