देश भर में धारा-144 के दायरे में कोरोना वायरस के संदिग्ध मामले के कारण लिया यह बड़ा फैसला

corona

हिमाचल प्रदेश के साथ-साथ प्रदेश भर में फैले कोरोना वायरस के कारण धर्मशाला और देश भर सहित राज्य तथा पड़ोसी क्षेत्रों में कोरोना वायरस के मामले उजागर होने के पश्चात इसके संक्रमण को रोकने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा आवश्यक आदेश तथा हिदायतें दी गई हैं। प्रदेश के जिला कांगड़ा में कोरोना वायरस के संदिग्ध तथा उनके संपर्क में आए लोगों पर धारा-144 लागू करने के आदेश दिए गए हैं।

इसके तहत कोरोना वायरस के संदिग्ध व्यक्तियों तथा उनके संपर्क में आए व्यक्तियों को स्वयं स्वास्थ्य केंद्रों या निःशुल्क टोल फ्री नंबर-104 पर जानकारी देनी होगी। यदि प्रदेश में किसी में भी व्यक्ति को इस रोग के सक्रमण मिलते है, तो वो इस नो पर कॉल सकते है।

स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया टोल फ्री नंबर

इसी दौरान उन्हें आइसोलेशन में रहना जरूरी होगा। इसी के साथ अब कोरोना वायरस के संदिग्ध व्यक्तियों तथा उनके संपर्क में आए व्यक्तियों की स्वयं की जिम्मेदारी होगी कि वे स्वास्थ्य विभाग या टोल फ्री नंबर पर सूचना दें तथा आइसोलेशन में रहें। जानकारी के अनुसार उन्हें सार्वजनिक स्थान पर किसी से भी मिलने की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसी दौरान यदि कोई इस मांमले में लापरवाही बरतता है।

जांच के लिए मना करने वाले व्यक्तियों पर की जायगी कड़ी करवाई

तो ऐसा न करने वालों पर कानूनी कार्रवाई भी अमल में लाई जाएगी। प्रदेश के उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने बताया कि कोरोना के संदिग्ध व्यक्ति या उसके संपर्क में आए किसी भी व्यक्ति को स्वास्थ्य विभाग के निर्देशानुसार जांच करवाना कानूनी तौर पर जरूरी होगा। जिस की बजह प्रदेश में फैले इस वायरस को कम करना है।

आईपीसी की धारा-270

प्रदेश में यदि ऐसे व्यक्ति स्वास्थ्य जांच या आइसोलेशन में रहने से इनकार करते हैं, तो उनके लिए आईपीसी की धारा-270 के तहत दो साल की सजा तथा जुर्माने का प्रावधान किया जायेगा है। इसी तरह से संस्थानों, होटलों, होम-स्टे इत्यादि में भी कोई कोरोना का संदिग्ध मामला उजागर होता है,

तो ऐसे सभी संस्थानों को भी स्वास्थ्य विभाग के नियमानुसार स्वास्थ्य जांच प्रक्रिया में शामिल होना जरूरी है, तथा जरूरत पड़ने पर ऐसे संस्थानों को बंद करने का प्रावधान भी किया गया है। फ़िलहाल प्रदेश सरकार ने सभी शिक्षा ससस्थानो को बंद किया गया है।

This major decision was taken due to suspected case of corona virus in the scope of Section -144 across the country.

Recommended For You

About the Author: Ankit Chandel